Savings Is Not It’s Paradox

Sharing is caring!

Savings Is Not It’s Paradox | बचत खुद का विरोधाभास नहीं हो सकती।

Professor  J.M. Keynes ने अपनी एक विचारधारा में बचत को खुद का विरोधाभास कहा है। मैं उनके इस सिद्धांत का तह दिल से सम्मान करता हूँ। परन्तु आज के दौर में जब बैंकिंग प्रणाली हमारे बीच अपनी पैंठ बना चुकी है तो उनका बचत के प्रति ये विचार मेरे गले नहीं उतरता।

Professor J.M. Keynes has suggested that “savings a paradox of it’s own” in one of his ideologies. I respect this principle wholeheartedly. But in today’s era, when the banking system has made its way among us, this idiology for ​​saving does not get embraced.


उनके अनुसार बचत करने पर बाजार में पूंजी की कमी हो जाती है, जिस से निवेश में कमीं आती है। तथा इस से लोगों की आमदनी पर भी असर पड़ता है, जिस से बचत और कम होने लगती है।

According to him, there is a shortage of capital in the market due to savings, which reduces investment. And this also affects the income of the people, due to which savings starts to decrease further.


सुनने में यह विचार व्यवहारिक तथा अच्छा लगता है। पर जब आज कल के लोग बचत करते हैं तो वे अपनी बचाई गई राशि में से ज़्यादातर हिस्सा बैंकों में जमा के रूप में रखते हैं। और बहुत कम राशि अपने पास नकद के रूप में रखना पसंद करते हैं।

This idea sounds practical and fine. But when people save, they keep most of their saved bucks in the form of deposits in banks. And prefer to keep a small amount as cash in their possession.


इस से बैंकों के पास ज़्यादा पूंजी इकट्ठी हो जाती है, जिसे बैंक आगे कर्ज़े के रूप में व्यापारिक फार्मों को दे सकेंगे। इससे निवेश में बढ़ोतरी होगी। तथा आमदनी के साथ साथ बचत भी बढ़ेगी।

This allows banks to accumulate more capital, which then be able to be utilize as loans to business firms. This will increase investment and along with income, savings will also increase.


इस लिए बचत खुद का विरोधाभास नहीं हो सकती।

Therefore, savings cannot be contradicted by itself.

Prince Kataria

I am an educationist blogger and willing to provide best and deep knowledge of my Niche to Indian Public free of cost.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *